Monthly Archives: October 2010


सूर्य 1

कोई स्ट्रीट लाईट बल्ब नही है, ये स्त्रोत है हमारी परम ऊर्जा का…

सबसे प्रख्यात, प्रधान और सबसे महत्वपुर्ण स्थान रखते है सुर्य इस सॊर मण्डल मे!
सबसे बडी वस्तु और ९८% सॊर मण्डल का भार समाया है इनमे!
इनकी चक्रिका मे समाने के लिये १०९ और इनके अन्तर मे आने के लिए १० लाख पृथ्वी चहिये!

Mankind will not remain on Earth forever, but in its quest for light and space will at first timidly penetrate beyond the confines of the atmosphere, and later will conquer for itself all the space near the Sun. – Konstantin E. Tsiolkovsky