Monthly Archives: June 2015

स्कूल बचपन और दोस्त…

जीवन के इस मेले में… सबके साथ या अकेले में… जब हम बड़े हो जाते हैं… भगदड़ में खो जाते हैं… जब मिलता है कोई कोना…. जहाँ होता है बस खुद का होना… वो बचपन याद दिलाता है… गम कोसो दूर ले जाता है… जब आकाश में तारे होते...

spacer