इम्तिहान

इम्तिहान की हद हो गई,अब तो एक ज़िद हो गई, माना सनम बहुत बुरे हैं हम,पर यकीन करो खुद का, कि तुम भी कोई कम नहीं, अब बोलते हो फ़ैसलों की ज़ुबान,क्या मेरा कोई ख़त, अभी तक पढ़ा नहीं? रात भर जागे हम तेरे लिए,और कहते हो कि सपना...

spacer

जाने दे…

शोखियों को अपने दामन से निकल जाने दे!अब सुबा होने दे और जाग जाने दे!! नहीं रहा मैं कहीं का तेरे बग़ैर ए हमदम!कम-स-कम मुझे सब्र से तो बह जाने दे!! सब डूबा दिया तेरी सरगोशियों के साए में!अब तो खुद साया ब कहता है, तुझे कैसे उभर जाने...

spacer

तेरे लिए “T” :)

                                एक जीवन को देखा है                              एक जीवन से यूँ आते हुए                              एक चमत्कार सा होते हुए                               एक फूल को यूँ इतराते हुए                                पहले सोचा क्या रक्खा था                                इससे पहले यूँ जीते थे                                और अब देखूं तो लगता है                                रंगों को यूँ खिलते...

spacer

बुलबुल

इक लड़की को देखा, शरमाई सी हुई, गिनती रहती है तार्रों को, कभी खुद में गुम, कभी कर दे गुम, चेहरा उसका और करे बयां सितारों को! कुछ सूझा हमें, की उसे कहें, फिर लगा कहने को कुछ ना है, ऐसे ताउमार देखा करेंगे बस, यही आफ़साना, यही बयां...

spacer

पल

मायूसी के आलम में, इक प्यार का झोंका लहराया,जब आँख हमारी बंद हुई, देखा हमने भी कुछ पाया! सफ़ेद किताबों के पन्नों सा, था दिल ये हमारा बेचारा,एक लफ्ज़ जुड़ा, आफसाना बना, और इश्क का मौसम ले आया!दुनिया जाने दुनियादारी, हमने कब उसपे हक है लिया,कुछ लोग अलग भी...

spacer

हिस्सा

सबको चाहिए अपना हिस्सा, चाहे वो हो तिनका या इंसान, या कोई भगवान्! सबको है चिंता अपने हिस्से की,सबको फ़िक्र है अपने किस्से की,सब हैं मायूस से चूर-चूर,हैं अपनी ही धुन में सबसे दूर! सब प्यार की बातें करते हैं,सब ख़ुशी के कुछ पल ढूंडते हैं,सबको है प्यार का...

spacer

सबको जाते यूँ ही देखा

फिर से चली है सर्द हवा, फिर धुल उडी है हलकी सी,यादों के आँगन में फिर से, एक साया सा हमने देखा! दिल में हुआ है कुछ फिर से, कुछ धुंआ उड़ा है फिर से कहीं,मैं फिर से बैठा जाता हूँ, ये क्या फिर से हमने देखा! कुछ स्याही...

spacer

एक कविता

कुछ प्यार के पल जो बांटे थे, कुछ फूल भी थे कुछ कांटे थे!कुछ दर्द था मीठा-मीठा सा, एहसास था धीमा-धीमा सा!दिल को एक मंज़र याद सा था, एक प्यार भरा जज़्बात सा था!तब पतझड़ भी एक सावन था, गम भी खुशियों का आँगन था!झोंके यूँ हवा के चलते...

spacer

तहसीन मुनव्वर की एक ग़ज़ल

फिर वही भूली कहानी है क्याफिर मैरी आँख में पानी है क्या फिर मुझे उसने बुलाया क्यों हैफिर कोई बात सुनानी है क्या ज़िन्दगी हो गयी सुनते सुनतेहम को यह मौत भी आनी है क्या आज फिर मुसकुरा के देखा हैआज फिर आग लगानी है क्या मुझ क्यों देख...

spacer